bp low ke lakshan kya hai | लो बीपी के लक्षण और इलाज

बीपी लो के लक्षण (bp low ke lakshan): बीपी लो यानी कि हाइपोटेंशन किसी को भी हो सकता है। यह एक ऐसी समस्या है जिसे समय रहते काबू नहीं किया गया तो यह जानलेवा भी हो सकती है। निम्न रक्तचाप या बीपी लो होना एक ऐसी समस्या है जिसमे शरीर की नसों में खून का जो दबाव है वह सामान्य से कम हो जाता है। अगर नसों में खून का दबाव कम होगा तब दिल, दिमाग और शरीर के अन्य दूसरे हिस्सों में रक्त नहीं पहुंचेगा। बीपी लो होने पर बेहोशी और चक्कर को ही इसका मुख्य लक्षण माना जाता है।

इससे पहले कि आर्टिकल में हमने आपको बवासीर की बीमारी से राहत पाने के लिए हिमालय पाइलेक्स टेबलेट से जुड़ी सामान्य जानकारी दी है जिसे आप लोगो का अच्छा रिस्पॉन्स मिला। हमें उम्मीद है यह आर्टिकल बीपी लो के लक्षण और इलाज भी आपके लिए हेल्पफुल होगा। इसमें हम आपको बीपी लो के घरेलू उपाय, लो बीपी कितना होता है, बीपी लो होने पर क्या खाएं, बीपी चेक मशीन नेम और प्राइस के बारे में बताएंगे तो चलिए आर्टिकल की शुरुआत करते हैं।

बीपी कितना होना चाहिए – Ideal blood pressure in hindi

एक आदर्श bp (ब्लड प्रेशर) की बात करें तो 120/80 (सिस्टोलिक/डायस्टोलिक) से कम 90/60 से ज्यादा होना चाहिए।

बीपी लो किसे कहते हैं?

अगर किसी मनुष्य का रक्तचाप ना 90/60 से कम हो जाता है या नीचे चला जाता है, तो इसे लो बीपी, निम्न रक्तचाप या बीपी लो (bp low) होना कहते हैं।

सिस्टोलिक और डायस्टोलिक का एक न्यूनतम स्तर होता है। यदि ब्लड प्रेशर इस न्यूनतम स्तर से नीचे चला जाता है तब इसे मेडिकल की भाषा में हाइपोटेंशन, लो ब्लड प्रेशर माना जाता है।

बीपी लो के लक्षण (bp low ke lakshan) क्या-क्या होते हैं?

बीपी लो के लक्षण (bp low ke lakshan in hindi) में सबसे पहले बेहोशी और चक्कर आना शामिल है कुछ मामलों में ब्लड प्रेशर लो होने के अन्य प्रकार के लक्षण भी हैं जो कुछ इस प्रकार है –

  • थकान
  • चक्कर आना
  • धुंधला दिखाई पड़ना
  • बेहोशी
  • एकाग्रता में कमी
  • जी मिचलना
  • उल्टी
  • सांस लेने में दिक्कत

बीपी लो होने के कारण

  1. खून की कमी
  2. चोट लगने पर खून ज्यादा बह जाने के कारण
  3. शारीरिक कमजोरी
  4. कई प्रकार की दवाइयों के सेवन से
  5. डिहाइड्रेशन की वजह से
  6. हृदय संबंधित दवाइयों के सेवन की वजह से
  7. शारीरिक बीमारियां जैसे: थायराइड, डायबिटीज, प्रेगनेंसी इसके अलावा कई मामलों में बीपी लो होने का कारण पता नहीं चलता और किसी बीमारी की वजह से लो बीपी रह सकता है। ऐसे में इसका इलाज ना किया गया तो यह व्यक्ति के लिए खतरनाक हो सकता है।

बीपी लो से कैसे बच सकते है?

शराब का सेवन करते हैं तो इसका सेवन बंद कर दें। पर्याप्त मात्रा में पानी पिए कम से कम 8 से 10 गिलास पानी तो एक दिन में जरूर पिएं। भोजन में आवश्यक पोषक तत्व को शामिल करके। पैर के ऊपर पैर रखकर ना बैठे बैठने के बाद धीरे-धीरे उठे एक बार में ज्यादा खाने से बचें बल्कि थोड़ी थोड़ी देर में खाएं हाई कार्बोहाइड्रेट खाद पदार्थ का कम इस्तेमाल करें।

बीपी लो के घरेलू उपाय

bp low ke lakshan kya hai | लो बीपी के लक्षण और इलाज
लो बीपी के घरेलू इलाज

ऐसा माना जाता है अगर सुबह-शाम चुकंदर के रस का सेवन किया गया तो ब्लड प्रेशर को सामान्य रखने में मिल सकती है।

8 से 9 घंटे की पर्याप्त नींद ले इससे आप का स्ट्रेस और थकान भी दूर होगा।

तुलसी विटामिन सी, पोटैशियम, मैग्निशियम से भरपूर होता है इसलिए नियमित रूप से सुबह के समय तुलसी के पत्ते का सेवन ब्लड प्रेशर को सामान्य रखने में मदद करता है।

चाय कॉफी का सेवन करने की सलाह भी दी जाती है।

अदरक नमक सेंधा नमक का पेस्ट बनाकर खाना खाने के पहले नियमित रूप से सेवन करने पर ब्लड प्रेशर नॉर्मल होने में मदद मिल सकती है।

खाने में अधिक मात्रा में नमक का सेवन करने की सलाह दी जाती है लेकिन हमारी सलाह यह है कि आप अपने डॉक्टर की सलाह पर ही फैसले लें।

बीपी चेक मशीन के नाम – bp check machine name in hindi

बीपी चेक करने वाली मशीन का नाम डिजिटल स्फिग्मोमेनोमिटर है। आज मार्केट में कई अलग-अलग तरह के ब्लड प्रेशर मशीन मिल जाएंगे जैसे मरकरी ब्लड प्रेशर मशीन, डिजिटल ब्लड प्रेशर मशीन, एनेरोइड ब्लड प्रेशर मशीन।

मरकरी ब्लड प्रेशर मशीन: इसमें एक स्केलिंग बोर्ड बॉक्स रबर बॉल और कफ होता है जिसे डॉक्टरों द्वारा ब्लड प्रेशर नापने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

डिजिटल ब्लड प्रेशर मशीन: इसमें एक डिजिटल मॉनिटर और एक कप होता है यह मशीन की मदद से व्यक्ति खुद ही अपना ब्लड प्रेशर मॉनिटर कर सकता है यह एक छोटा और सुविधाजनक मशीन है।

एनेरोइड ब्लड प्रेशर मशीन: यह पारा रहित, स्केलिंग बोर्ड रहित ब्लड प्रेशर नापने की मशीन है यह दिखने में बाइक के मीटर की तरह होता है।

बीपी लो के लक्षण (bp low ke lakshan) FAQs.

बीपी लो हो तो क्या करें?

बीपी लो हो तो लेट कर या सीधे खड़े होकर ब्लड प्रेशर यानी कि रक्त चाप की जांच कराएं।

बीपी कम होने पर क्या खाना चाहिए?

बीपी कम होने पर शहद के साथ आंवला का रस या फिर आंवला का मुरब्बा खाना फायदेमंद साबित हो सकता हैं।

शायद आप भी इसे पसंद करें –

निष्कर्ष (conclusion) – हमनें लो बीपी के लक्षण (bp low ke lakshan) और इलाज इसके बारे में सभी जानकारी देने की कोशिश की है। आशा करती हूं बीपी लो के लक्षण (bp low ke lakshan) से जुड़ी सभी जानकारियो के बारे में आप अच्छी तरह समझ गए होंगे। इस पोस्ट से रिलेटेड आपके मन में कोई सवाल है? कुछ पूछना चाहते हैं, तो हमें कमेंट में पूछ सकते हैं।

एक छोटा सा निवेदन, अगर आपको यह आर्टिकल हेल्पफुल लगा है और आपके कोई काम आ सका है, तो इसे अपने फ्रेंड्स और फैमिली के साथ शेयर करना ना भूलें।

Note: इस आर्टिकल में बताए गए किसी भी उपचार, तरीकों और उपाय को लोगों तक जानकारी पहुंचाने के लिए लिखा गया है। किसी भी उपाय को अपनाने से पहले पैच टेस्ट करे और अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। अपना हिंदी इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी या दावा नहीं करता है।

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद!

Leave a Comment

मुल्तानी मिट्टी से बढ़ाएं चेहरे का गोरापन सामंथा रूथ प्रभु की बढ़ती खूबसूरती और चमकदार त्वचा का राज शादी से पहले इस फेस मास्क से बनाएं खूबसूरत चेहरा दुर्घटना के बाद ऋषभ पंत का हेल्थ अपडेट सुपरस्टार थलापति विजय का फिटनेस सीक्रेट चेहरे पर ओवरनाइट शहद लगाने के ब्यूटी टिप्स मलाई जैसी स्किन के लिए चेहरे पर लगाएं मलाई सर्दी के मौसम में डाइट प्लान क्या होना चाहिए सर्दियों में मुल्तानी मिट्टी और शहद के फायदे केक खाने के फायदे