How To Make Ayurvedic Kajal At Home In Hindi | घर पर आयुर्वेदिक काजल कैसे बनाएं

आज हम हमारे पोस्ट How To Make Ayurvedic Kajal At Home In Hindi में काजल बनाना सीखेंगे। अगर आप घर पर ayurvedic kajal कैसे बनाएं सोच रहे है और आयुर्वेदिक काजल खुद बनाकर इस्तेमाल में लाने की सोच रहे तो आपकी सोच बिल्कुल सही है। ayurvedic kajal आपको कई तरह के नुकसान से बचाएगा और इसके अपने अलग ही फायदे है।

काजल आंखों की खूबसूरती को निखरता है। मेकअप में काजल का मुख्य स्थान होता है । बाजार में अलग अलग ब्रांड की गई काजल आसानी से मिल जाते हैं। मार्केट में मिलने वाले काजल में हानिकारक केमिकल मिला होता है।

जिसका लंबे समय से इस्तेमाल करें तो इससे आंखों में इंफेक्शन का खतरा रहता है और केमिकल मिले हुए काजल हमारी आंखों को नुकसान पहुंचाते हैं इसलिए आप मार्केट में मिलने वाले काजल की जगह घर पर ayurvedic kajal बनाकर उपयोग में ला सकते हैं।

घर पर ayurvedic kajal को बनाने में लगने वाली सामग्री बड़ी आसानी से आपको अपने घर पर ही आसानी से मिल जाएगी। इस काजल को बनाने में हमने किसी भी तरह के केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया हुआ है।

How to make ayurvedic kajal at home in hindi
How to make ayurvedic kajal at home in hindi

इसलिए यह आपके आंखों को किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाएगा इस काजल का उपयोग महिला, पुरुष और खास तौर पर बच्चे कर सकते हैं । तो आइए जानते हैं घर पर ayurvedic kajal कैसे बनाएं और इस काजल को बनाने की विधि के बारे में..

अजवाइन आयुर्वेदिक काजल Ajwain Ayurvedic Kajal

सामग्री एक चम्मच अजवायन, 3 चम्मच सरसों का तेल, एक चम्मच देशी घी, एक मिट्टी का दिया, रुई कपास बाती बनाने के लिए।

विधि ayurvedic kajal बनाने के लिए सबसे पहले कपास को फैला कर उसमें एक चम्मच अजवाइन डालें। अब इस कपास में अजवाइन डालकर बाती बनाते हुए रोल बनाते हुए बाती बना ले। अब एक दिया लेकर उसमें सरसों का तेल भरकर रखें अब तेल भरे हुए दिए में हमने जो अजवाइन डालकर बाती बनाया था उसे सरसों के तेल वाले दीए में डूबाए।

बाती को अच्छे से भीगने दें इसके बाद एक खाली जगह पर दिया को रखकर इसके आगे और पीछे दो छोटे गिलास को उल्टा रखें और बीच में दिया रखकर मीडियम साइज के प्लेट को ग्लास के ऊपर उल्टा रख दे।

दिया को जलने दे। अब दिए को 2 घंटे के लिए जलता छोड़ दे। दो घंटा बाद जब दिया पूरी तरह जलकर बुझ जाए तब प्लेट को ठंडा होने दे और फिर उसके बाद एक चम्मच की मदद से प्लेट पर जमी काली परत को खुराचकर इकट्ठा कर ले।

अब आपका काजल पाउडर इकट्ठा हो गया है। इस इकट्ठे किए काजल पाउडर में एक चम्मच घी डालें इन दोनों को आपस में अच्छे से मिलाकर गाढा पेस्ट तैयार कर लें। जब आपका गाढा पेस्ट बनकर तैयार हो जाए तब इस पेस्ट को एक साथ एयर टाइट डिब्बे में डालकर रख लें। अपका अजवाइन ayurvedic kajal बनकर तैयार हो चुका है, इस होममेड काजल को आप 4 महीने तक आसानी से रखकर इस्तेमाल कर सकते है।

नीम आयुर्वेदिक काजल Neem Ayurvedic Kajal

सामग्री नीम का फूल दो तीन डंठल सहित, घी का दीपक, रुई कपास, एक चम्मच घी काजल को मिलाने के लिए।

विधि सबसे पहले रुई (कपास) को फैलाकर इसमें नीम का फूल डालकर रोल करें और बाती बना ले । बाती तैयार हो जाने के बाद घी के दिए मे बाती को दुबाए, बाती को अच्छे से घी में भीगने दें। इसके बाद एक खाली जगह पर दिया को रखकर इसके आगे और पीछे दो छोटे गिलास को उल्टा रखें और बीच में दिया रखकर मीडियम साइज के प्लेट को ग्लास के ऊपर उल्टा रख दें।

अब दीया जला दें और दिए को दो से 3 घंटे के लिए जलता छोड़ दे। दो घंटा बाद जब दिया पूरी तरह जलकर बुझ जाए तब प्लेट को ठंडा होने दें। ठंडा होने के बाद एक चम्मच की मदद से प्लेट पर जमी काली परत को खुरच कर इकट्ठा कर ले।

अब आप का काजल पाउडर इकट्ठा हो गया है इस इकट्ठे किए काजल पाउडर में एक चम्मच देशी घी डाले इन दोनों को आपस में अच्छे से मिलाकर गाढा पेस्ट तैयार कर लें।

जब आपका गाढ़ा पेस्ट बनाकर तैयार हो जाए तब इस पेस्ट को एक साफ एयरटाइट डिब्बे में डाल कर रखले। इस होममेड काजल को आप 4 महीने तक आसानी से रखकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

बदाम आयुर्वेदिक काजल (ayurvedic kajal)

सामग्री 3 बदाम, 1 दिया, एक चम्मच घी दिया जलाने के लिए, रूई, एक चम्मच घी काजल को मिलाने के लिए, 3 ग्लास, एक प्लेट।

विधि सबसे पहले बादाम को काला होने तक जला लें फिर इसे बारीक कूटकर रख ले अब रूई की मदद से सारे बादाम को रूई के अंदर भरकर एक बात तैयार कर ले इस बाती को घी के दीपक के अंदर भीगा दे।

अब आपको एक खाली जगह पर तीनों गिलास को उल्टा रखना है और उसके ऊपर में प्लेट को भी उल्टा रख देना है और इसके बीच में आपने जो बादाम और घी का दीपक तैयार किया है उसे जलाकर छोड़ दे कुछ देर बाद आप देखेंगे कि प्लेट में पूरी तरह काली परत जम चुकी है।

प्लेट में जमी काली परत को एक चम्मच की मदद से कुरज कर इकट्ठा कर ले अब इसमें एक चम्मच घी मिलाएं और आपस में इसे अच्छे से मिलाएं।

अच्छी तरह मिल जाने के बाद तैयार काजल को एक साफ पानी में डालकर रख दें जी हां आपने सही सुना इसे पानी में डाल कर रखना है इससे यह होता है कि काजल से हमारे आखों में आंसू नहीं आएगा।

12 घंटे पानी में रखने के बाद अब काजल को निकाल कर एक साथ डिब्बे में भरकर रख लें और इसे अब जब चाहे तब इस्तेमाल में ला सकते हैं।

अरंडी castor आयुर्वेदिक काजल (ayurvedic kajal)

सामग्री 1 दिया, एक चम्मच कैस्टर ऑयल यानी की अरंडी का तेल दिया जलाने के लिए, रूई, एक चम्मच घी काजल को मिलाने के लिए, 3 ग्लास, एक प्लेट।

विधि एक दिए में कैस्टर ऑयल डालें अब उसमें रुई की नार्मल बाटी बना कर डाल दे आप करो और दिए कब आती तैयार हो गया है अब आपको यह करना होगा कि अब आपको एक खाली जगह पर तीनों गिलास को उल्टा रखना है और उसके ऊपर में प्लेट को भी उल्टा रख देना है और इसके बीच में आपने जो बादाम और घी का दीपक तैयार किया है उसे जलाकर छोड़ दे कुछ देर बाद आप देखेंगे कि प्लेट में पूरी तरह काली परत जम चुकी है।

प्लेट में जमी काली परत को एक चम्मच की मदद से कुरज कर इकट्ठा कर ले अब इसमें एक चम्मच घी मिलाएं और आपस में इसे अच्छे से मिलाएं।

अच्छी तरह मिल जाने के बाद तैयार काजल को एक साफ पानी में डालकर रख दें जी हां आपने सही सुना इसे पानी में डाल कर रखना है इससे यह होता है कि काजल से हमारे आखों में आंसू नहीं आएगा।

12 घंटे पानी में रखने के बाद अब काजल को निकाल कर एक साथ डिब्बे में भरकर रख लें और इसे अब जब चाहे तब इस्तेमाल में ला सकते हैं।

इन्हें भी जाने

त्वचा की देखभाल कैसे करें, स्किन केयर के 3 टिप्स और घरेलू उपाय

Vitamin C Serum ghar par kaise banaye

Leave a Comment

मुल्तानी मिट्टी से बढ़ाएं चेहरे का गोरापन सामंथा रूथ प्रभु की बढ़ती खूबसूरती और चमकदार त्वचा का राज शादी से पहले इस फेस मास्क से बनाएं खूबसूरत चेहरा दुर्घटना के बाद ऋषभ पंत का हेल्थ अपडेट सुपरस्टार थलापति विजय का फिटनेस सीक्रेट चेहरे पर ओवरनाइट शहद लगाने के ब्यूटी टिप्स मलाई जैसी स्किन के लिए चेहरे पर लगाएं मलाई सर्दी के मौसम में डाइट प्लान क्या होना चाहिए सर्दियों में मुल्तानी मिट्टी और शहद के फायदे केक खाने के फायदे