Vishv swasthya divas ka uddeshya, महत्व व सभी प्रकार की जानकारियां

Vishv swasthya divas के बारे में जानने से पहले हम आपको बताना चाहते है की आज के समय में हर व्यक्ति अच्छी सेहत की बात करता है और इसके लिए काफी हद तक लोगो में जागरूकता भी आई है फिर भी हमारे सामने कई मामले आते है जिसे हम सोचने पर विवश हो जाते है कि क्या यही चिकित्सा जगत की उपलब्धि है?

आज भी अधिकांश व्यक्तियों के रोगों का या तो समय पर पता नही चल पता है या फिर उनका सही तरह से उपचार नही हो पाता है जिसके कारण पूरी दुनियां हर साल करोड़ों लोगों की असमय ही मृत्यु हो जाती है तथा पूरी दुनिया में लोगो को जागरूक करने के उद्देश्य से Vishv swasthya divas का आयोजन किया जाता है। इसी तरह Vishv swasthya divas की सभी जानकारी को हम इस पोस्ट में जानने वाले है।

Vishv swasthya divas पर डब्ल्यूएचओ कैंसर अस्थमा हृदय रोग जैसी गम बढ़ती बीमारी के बीच हर साल मानव और ग्रह को स्वस्थ रखने के लिए लोगों को कौन-कौन सी अर्जेंट एक्शन लेनी है इस पर ग्लोबली फोकस करता है और ह्यूमन वेलबिंग फोकस्ड सोसाइटी बनाने की प्रक्रिया को बढ़ावा देता है।

Vishv swasthya divas
Vishv swasthya divas

Vishv swasthya divas का परिचय

आज भी बहुत सारे शहरी व ग्रामीण क्षेत्र है जहां स्वास्थ्य संबंधी सुविधाएं ना के बराबर उपलब्ध है अगर उपलब्ध भी है तो इतनी दूरी पर कि मरीज का समय से पहुंच पाना असंभव हो जाता है।

स्वास्थ्य संबंधित सभी मुद्दों को हल करने के लिए हर साल Vishv swasthya divas का आयोजन किया जाता है। तो चलिए आज के लेख में Vishv swasthya divas पर चर्चा करते हैं और इस दिवस के योगदान के बारे में जानते हैं।

Vishv swasthya divas 2022 पर डब्ल्यूएचओ मानव और ग्रह को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक तत्काल कार्यों पर वैश्विक ध्यान केंद्रित समाज बनाने के लिए एक आंदोलन को बढ़ावा देगा।

Vishv swasthya divas का इतिहास

7 अप्रैल 1948 के दिन विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना की गई थी। WHO का मुख्य काम दुनिया भर में उठ रही स्वास्थ्य समस्याओं पर नजर रखना और उसका निवारण करना है।

सन् 1950 में पहली विश्व स्वास्थ्य सभा की बैठक हुई थी जिसमें इस दिवस को हर वर्ष मनाने का निर्णय लिया गया। 7 अप्रैल 1948 के दिन स्विट्जरलैंड के शहरजिनेवामें सबसे पहली विश्व स्वास्थ्य सभा में हर वर्ष 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाने की घोषणा की गई थी की गई थी यानी 1948 में विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाने का फैसला लिया गया था लेकिन इस दिवस की शुरुआत वर्ष 1950 में हुई थी।

WHO की स्थापना के वक्त 61 देशों ने इसके संविधान पर हस्ताक्षर किए थे और इसकी पहली बैठक 24 जुलाई 1948 को हुई थी।

WHO के स्थापित होते ही सबसे पहले स्मॉलपॉक्स बीमारी को जड़ से खत्म करने का पूरा करने का प्रयास किया गया। वर्तमान में यह संस्था एड्स व टीवी जैसी गंभीर बीमारियों की रोकथाम पर काम कर रही।

WHO ही विश्व स्वास्थ्य रिपोर्ट के लिए जिम्मेदार होता है यह रिपोर्ट पूरी दुनिया के स्वास्थ्य सर्वे पर आधारित होती है। वर्तमान में WHO के डायरेक्टर जनरल टेड्रॉसएडोनम है जिन्होंने 1 जुलाई 2017 को अपना पांच वर्षीय कार्यकाल शुरू किया।

विश्व स्वास्थ्य दिवस का उद्देश्य

Vishv swasthya divas को प्रतिवर्ष मनाने का मुख्य उद्देश्य वैश्विक स्वास्थ्य तथा उससे संबंधित समस्याओं पर विचार-विमर्श करना है, उस पर प्रतिक्रिया करनी है, उपाय करने हैं, स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार करना है तथा गंभीर बीमारियों के फैलाव में रोकथाम करनी है।

पूरे विश्व भर में एक समान स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं के प्रति जागरूकता फैलाने है। लोगों की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को हल करना है। इस दिन का मकसद दुनिया के सभी लोगों को स्वास्थ्य का महत्व समझाना है ताकि स्वस्थ रहने के प्रति लोगों को सजग करने के लिए आकर्षित किया जा सके।

आयोजन एवं कार्यक्रम :इस दिवस पर दुनिया भर में स्वास्थ्य से संबंधित विशेष कार्यक्रम तथा जगह-जगह पर स्वास्थ्य शिविर / कैंप आयोजित किए जाते हैं। इन जगहों पर डॉक्टर द्वारा सभी मरीजों के बीमारियों की जांच की जाती हैं और मुफ्त में दवाइयां बांटी जाती है।

इस दिन स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता फैलाने व बढ़ावा देने वाले प्रोग्राम आयोजित किए जाते हैं। 7 अप्रैल यानी Vishv swasthya divas के दिन राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न तरह के स्वास्थ्य विषय से संबंधित कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

इन कार्यक्रमों व आयोजनों में देश के स्वास्थ्य अधिकारी मौजूद होते हैं जो स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को हल करने में सहायता प्रदान करते हैं स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से लड़ने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जाता है अनेकों नई सुविधाएं लागू की जाती है। लोगों के स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को Highlight करने तथा उनका निदान करने का भरपूर प्रयास किया जाता है।

Vishv swasthya divas पर क्या करे

तनाव से करें बचाव: आपको बता दें कि यदि आप जीवन में ज्यादा तनाव रखते हैं, तो यह आपके लिए बहुत खतरनाक साबित हो सकता है. आपकी सेहत पर तनाव का बुरा प्रभाव कई भयंकर बीमारियों न्यौता देता है, इसलिए तनाव मुक्त रहने की कोशिश करें.

रोज करें व्यायाम Exercise Everyday: यदि आप अपनी दिनचर्या में रोजाना व्यायाम करते हैं, तो आप पूर्णरूप से स्वास्थ्य रह सकते हैं।

Vishv swasthya divas क्यों मनाया जाता है?

Vishv swasthya divas के माध्यम से डब्ल्यूएचओ के इस संवैधानिक सिद्धांतों को रेखांकित करने का प्रयास किया जाता है ताकि प्रत्येक व्यक्ति को जाति धर्म या सामाजिक स्थिति के आधार पर बिना किसी भेदभाव के बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं को प्राप्त करने का अधिकार है।

Vishv swasthya divas 2022 की थीम क्या है?

हर साल विश्व स्वास्थ्य दिवस को मनाने के लिए एक टीम चुनी जाती है जो डब्ल्यूएचओ के जो डब्ल्यूएचओ की कंसर्न प्रायोरिटी एरिया स्कोर हाइलाइट करती है।

महामारी प्रदूषित ग्रह और बढ़ती हुई बीमारियों के बीच इस साल 2022 में वर्ल्ड हेल्थ डे की थीम है अवर प्लेनेट अवर हेल्थ यानी हमारा ग्रह और हमारा स्वास्थ्य है तो चलिए अब जानते हैं हम हमारे ग्रह को और हमारे स्वास्थ्य को कैसे बचा सकते हैं।

कार्यक्रम: डब्ल्यूएचओ ने हमारे ग्रह और हमारे स्वास्थ्य को बचाने के लिए गवर्नमेंट कॉरपोरेशन हेल्थ वर्कर्स हेल्थ फैसिलिटी मेयर और इंडिविजुअल को क्या-क्या करना है इसके लिए गाइडलाइन तैयार की गई है।

फैक्ट एंड फिंगर्स: एयर पोलूशन के कारण हर 1 मिनट में लंग कैंसर हार्डडिस्क और स्ट्रोक के कारण 13 लोगों की मौत हो जाती है।

  • हर 10 में से 9 लोग सांस में पोल्यूटेड एयर यानी सांस में प्रदूषित हवा ले रहे हैं इससे कैंसर, अस्थमा और हार्ड डिस्क जैसी बीमारियां बढ़ रही है।
  • 3.5 बिलियन लोगों के पास सेफ टॉयलेट फैसिलिटी नहीं है।
  • अनट्रीटेड ह्यूमन वेस्ट हमारी इकोसिस्टम और हेल्थ के लिए खतरा है ग्लोबली 2 बिलियन लोगों के पास पीने के लिए साफ-सुथरा पानी मौजूद नहीं है।
  • हर साल 800000 से ज्यादा लोग खराब पानी पीने से होने वाले डायरिया से मर जाते हैं।
  • मेडिकल वेस्ट कॉस डिजीज: के कारण हेपिटाइटिस बी सी और दूसरी इनफेक्शियस डिजीज हो रही है
  • टोबैको अडिक्शन के कारण हर साल 8 बिलियन लोगों की मौत हो जाती है।
  • हर साल 6 बिलियन ट्रीस काटे जा रहे हैं सिर्फ 6 ट्रिलियन सिगरेट बनाने के लिए।
  • टेंपरेचर बढ़ने और क्लाइमेट चेंज के कारण आने वाले फ्लड से आने वाले एडिशनल 2 बिलियन लोगों को डेंगू जैसी बीमारी का खतरा है।
  • नाइट्रोजन डाइऑक्साइड पॉल्यूशन रेस्पिरेटरी डिसीज को बढ़ा रही है।

Vishv swasthya divas कब मनाया जाता है

Vishv swasthya divas यानी ग्लोबल हेल्थ डे एक ग्लोबल हेल्थ अवेयरनेस डे के तौर पर हर साल 7 अप्रैल को मनाया जाता है।

Vishv swasthya divas पहली बार कब मनाया गया

1948 में पहली बार सबसे पहले डब्ल्यूएचओ ने वर्ल्ड हेल्थ असेंबली का आयोजन किया था और इस असेंबली में यह तय हुआ कि 1950 से हर साल 7 अप्रैल को Vishv swasthya divas मनाया जाएगा जोक डब्ल्यूएचओ का स्थापना दिवस है।

इसके बाद 1950 में सबसे पहला वर्ल्ड हेल्थ डे 7 अप्रैल को मनाया गया डब्ल्यूएचओ के नेतृत्व में इस दिन को नेशनल इंटरनेशनल व लोकली सेलिब्रेट किया जाता है।

पब्लिक हेल्थ इश्यू में इंटरेस्ट रखने वाली सरकार और non-government ऑर्गेनाइजेशन वर्ल्ड हेल्थ डे Vishv swasthya divas को मनाती है जैसे मीडिया रिपोर्ट में ऑर्गेनाइज एक्टिविटीज और सपोर्ट को हाईलाइट करत है।

Vishv swasthya divas को वर्ल्ड ट्यूबर कुलोसिस सेट, वर्ल्ड इम्यूनाइजेशन वीक, वर्ल्ड मलेरिया डे, वर्ल्ड नो टोबैको डे, वर्ल्ड एड्स डे, वर्ल्ड ब्लड डोनर डे, वर्ल्ड चागस डिजीज डे, वर्ल्ड डेटिएंट सेफ्टी डे, वर्ल्ड एंटीमाइक्रोबियल अवेयरनेस वीक और वर्ल्ड हेपिटाइटिस डे के साथ who द्वारा निर्देशित 11 ऑफिशियल हेल्थ कैंपेंस में से एक है।

इन्हें भी जाने

हमने जाना: हमने इस पोस्ट में Vishv swasthya divas का परिचय, Vishv swasthya divas का इतिहास, विश्व स्वास्थ्य दिवस का उद्देश्य, Vishv swasthya divas पर क्या करे, Vishv swasthya divas पहली बार कब मनाया गया इस तरह की संपूर्ण जानकारी आपको दी है।

उम्मीद है आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा अगर पसंद आया है तो इसे अपने फ्रेंड्स और फैमिली के साथ शेयर जरूर करें।

Leave a Comment

मुल्तानी मिट्टी से बढ़ाएं चेहरे का गोरापन सामंथा रूथ प्रभु की बढ़ती खूबसूरती और चमकदार त्वचा का राज शादी से पहले इस फेस मास्क से बनाएं खूबसूरत चेहरा दुर्घटना के बाद ऋषभ पंत का हेल्थ अपडेट सुपरस्टार थलापति विजय का फिटनेस सीक्रेट चेहरे पर ओवरनाइट शहद लगाने के ब्यूटी टिप्स मलाई जैसी स्किन के लिए चेहरे पर लगाएं मलाई सर्दी के मौसम में डाइट प्लान क्या होना चाहिए सर्दियों में मुल्तानी मिट्टी और शहद के फायदे केक खाने के फायदे